मिडिल क्लास को लोन की EMI पर 3 महीने की छूट। मिलेंगे ये ऑप्शन

Coronavirus (COVID-19) Crisis: "Your Money Is Safe," RBI Assures ...
Credit to NDTV RBI Image 
लॉकडाउन की वजह से देश की इकोनॉमी मंद पड़ गई है. इस हालात का आम लोगों पर बोझ न पड़े, इसके लिए आरबीआई की ओर से कई बड़े ऐलान किए गए है. उदाहरण के लिए रेपो रेट में कटोती कर लोन और ईएमआई का बोझ कम करने की कोशिश की गई है. वहीं बैंकों को हर महीने लोन EMI देने वाले ग्राहकों को भी राहत के संकेत मिले है।दरअसल, आरबीआई ने बैंकों से लोन की ईएमआई दे रहे लोगों को 3 महीने तक के राहत की सलाह दी है. आसान भाषा में समझें तो अब गेंद बैंकों के पाले में है. बैंकों को अब तय करना है कि वो आम लोगों को ईएमआई पर छूट दे रहे है या नहीं.अगर बैंकों ने आरबीआई की सलाह को अमल में लाया तो three उम्मीद है कि अगले 3 महीने  तक आपको लोन की ईएमआई नहीं देनी पड़ेगी. लेकिन इसका मतलब ये नहीं हुआ कि इस अवधि की ईएमआई को माफ कर दिया जाएगा. जानकारों के मुताबिक बैंक 3 महीने  की अवधि खत्म होने के बाद वसूली करेंगे.ऐसे में सवाल है कि क्या तीन महीने  के बाद आम लोगों पर अचानक ईएमआई का अतिरिक्त बोझ बढ़ेगा. इस सवाल के जवाब में फाइनेंशियल प्लानर तारेश भाटिया बताते है कि ऐसा नहीं होगा. ये संभव है कि बैंक आपकी मासिक किस्त को बढ़ा दें. इसके अलावा आपको टेन्योर के कुछ महीने  बढ़ाने का विकल्प भी मिल सकता है. वहीं, ग्राहकों के सामने बैंक एक खास डेडलाइन तक वन टाइम सेटलमेंट का विकल्प भी रख सकते है ये डेडलाइन  से  महीने  की हो सकती है. मतलब ये कि आपको एक खास समय तक एकमुश्त पेमेंट करना पड़ सकता है.बता दें कि अभी बैंकों को तय करना है कि वो कौन से लोन पर ईएमआई की छूट दे रहे है. मतलब ये कि रिटेल, कमर्शियल या अन्य तरह के लोन लेने वाले लोगों के लिए अब भी एक तरह का कन्फ्यूजन बना हुआ है.


No comments:

Post a Comment